Friday, January 21, 2022
Home ज्योतिष

ज्योतिष

योतिष या ज्यौतिष विषय वेदों जितना ही प्राचीन है। प्राचीन काल में ग्रह, नक्षत्र और अन्‍य खगोलीय पिण्‍डों का अध्‍ययन करने के विषय को ही ज्‍योतिष कहा गया था। इसके गणित भाग के बारे में तो बहुत स्‍पष्‍टता से कहा जा सकता है कि इसके बारे में वेदों में स्‍पष्‍ट गणनाएं दी हुई हैं। फलित भाग के बारे में बहुत बाद में जानकारी मिलती है।

भारतीय आचार्यों द्वारा रचित ज्योतिष की पाण्डुलिपियों की संख्या एक लाख से भी अधिक है। [1]

प्राचीनकाल में गणित एवं ज्यौतिष समानार्थी थे परन्तु आगे चलकर इनके तीन भाग हो गए।

(१) तन्त्र या सिद्धान्त – गणित द्वारा ग्रहों की गतियों और नक्षत्रों का ज्ञान प्राप्त करना तथा उन्हें निश्चित करना।
(२) होरा – जिसका सम्बन्ध कुण्डली बनाने से था। इसके तीन उपविभाग थे । क- जातक, ख- यात्रा, ग- विवाह ।
(३) शाखा – यह एक विस्तृत भाग था जिसमें शकुन परीक्षण, लक्षणपरीक्षण एवं भविष्य सूचन का विवरण था।
इन तीनों स्कन्धों ( तन्त्र-होरा-शाखा ) का जो ज्ञाता होता था उसे ‘संहितापारग’ कहा जाता था।

तन्त्र या सिद्धान्त में मुख्यतः दो भाग होते हैं, एक में ग्रह आदि की गणना और दूसरे में सृष्टि-आरम्भ, गोल विचार, यन्त्ररचना और कालगणना सम्बन्धी मान रहते हैं। तंत्र और सिद्धान्त को बिल्कुल पृथक् नहीं रखा जा सकता । सिद्धान्त, तन्त्र और करण के लक्षणों में यह है कि ग्रहगणित का विचार जिसमें कल्पादि या सृष्टयादि से हो वह सिद्धान्त, जिसमें महायुगादि से हो वह तन्त्र और जिसमें किसी इष्टशक से (जैसे कलियुग के आरम्भ से) हो वह करण कहलाता है । मात्र ग्रहगणित की दृष्टि से देखा जाय तो इन तीनों में कोई भेद नहीं है। सिद्धान्त, तन्त्र या करण ग्रन्थ के जिन प्रकरणों में ग्रहगणित का विचार रहता है वे क्रमशः इस प्रकार हैं-

१-मध्यमाधिकार २–स्पष्टाधिकार ३-त्रिप्रश्नाधिकार ४-चन्द्रग्रहणाधिकार ५-सूर्यग्रहणाधिकार
६-छायाधिकार ७–उदयास्ताधिकार ८-शृङ्गोन्नत्यधिकार ९-ग्रहयुत्यधिकार १०-याताधिकार

इस कथा को पढ़े या सुने बिना अधूरा रह जाएगा सकट चौथ व्रत, पढ़ें साहूकारनी और सकट देवता की कथा

इस कथा को पढ़े या सुने बिना अधूरा रह जाएगा सकट चौथ व्रत, पढ़ें...

इस बार सकट चौथ 21 जनवरी 2022 (शुक्रवार) को है। सकट चौथ के व्रत के दिन निर्जला व्रत रखा जाता है। सकट चौथ का...
सभी मनोकामनाएं पूरी करने आ गया है सकट चौथ व्रत, जानिये इसका महत्व, पूजन विधि और व्रत कथा

सभी मनोकामनाएं पूरी करने आ गया है सकट चौथ व्रत, जानिये इसका महत्व, पूजन...

इस दिन व्रत रहने के बाद सायंकाल चंद्र दर्शन होने पर दूध का अर्ध्य देकर चंद्रमा की विधिवत पूजा की जाती है। इस दिन...
आरम्भ हो चुका है पवित्र माघ माह, इस महीने पड़ेंगे ये प्रमुख व्रत और त्यौहार, देखें पूरी लिस्ट

आरम्भ हो चुका है पवित्र माघ माह, इस महीने पड़ेंगे ये प्रमुख व्रत और...

हिंदू कैलेंडर के अनुसार माघ महीने की शुरूआत 18 जनवरी 2022 यानी आज से हो गई है। पंचांग के अनुसार 16 फरवरी को माघ...
कब और कैसे शुरू करें गुरुवार का व्रत? जानें व्रत रखने की सही विधि

कब और कैसे शुरू करें गुरुवार का व्रत? जानें व्रत रखने की सही विधि

इस व्रत को पुरुष या महिलाऐं, कोई भी रख सकता है। गुरुवार का व्रत करने से घर में सुख-समृद्धि बनी रहती है। इस व्रत...
इस बार सकट चौथ बन रहा है यह शुभ योग, जानें गणेश जी की पूजा का शुभ मुहूर्त और विधि

इस बार सकट चौथ बन रहा है यह शुभ योग, जानें गणेश जी की...

सकट चौथ के दिन महिलाऐं निर्जला व्रत रखती हैं और अपनी संतान की लंबी आयु और खुशहाल जीवन के लिए कामना करती हैं। यह...
मंगल कर रहे हैं धनु राशि में प्रवेश, इन 4 राशि वालों की होगी बल्ले-बल्ले, हों जाएंगे मालमाल

मंगल कर रहे हैं धनु राशि में प्रवेश, इन 4 राशि वालों की होगी...

ज्योतिषीय गणना के अनुसार 16 जनवरी को मंगल ग्रह गोचर करके धनु राशि में प्रवेश करेंगे। ज्योतिषशास्त्र में मंगल को शक्ति, ऊर्जा, आत्मविश्वास और...
संतान सुख पाने के लिए करें ये अचूक ज्योतिष उपाय, सूनी गोद जल्द भर जाएगी

संतान सुख पाने के लिए करें ये अचूक ज्योतिष उपाय, सूनी गोद जल्द भर...

माँ बनने की लालसा में स्त्रियां पूजा-पाठ से लेकर तांत्रिक-टोटका और दवा-दारु सब उपाय करती हैं लेकिन फिर भी वे इस सुख से वंचित...
गहरी और स्पष्ट हो यह रेखा तो व्यक्ति जीता है लंबी उम्र, 70 साल से अधिक होगी आयु

गहरी और स्पष्ट हो यह रेखा तो व्यक्ति जीता है लंबी उम्र, 70 साल...

हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार हथेली में आयु रेखा को देख कर व्यक्ति की आयु का अनुमान लगाया जा सकता है। ऐसा माना जाता है...
घर में इन  मूर्तियों को रखने से बढ़ता है गुडलक, जीवन में आती है खुशहाली

घर में इन मूर्तियों को रखने से बढ़ता है गुडलक, जीवन में आती...

वास्तुशास्त्र के अनुसार हम घर में जो भी चीज़ें रखते हैं, वह हमारे जीवन और भाग्य को प्रभावित करती हैं। वास्तुशास्त्र के अनुसार घर...

मकर संक्रांति के दिन से हट जाती है शुभ कार्यों पर लगी रोक, इस...

जाड़े के मौसम के समापन और फसलों की कटाई की शुरुआत का प्रतीक समझे जाने वाले मकर संक्रांति पर्व को देश भर में धूमधाम...