अशोक नगर, जिले में कोविड-19 संक्रमण की संभावित तीसरी लहर से निपटने के लिए अस्पताल प्रबंधन द्वारा समुचित व्यवस्था एवं तैयारियां समय से पूरी की जाएं। जिले के सभी स्‍वास्‍थ्‍य केन्‍द्रों में पर्याप्‍त संसाधन एवं दवाईयां उपलब्‍ध हो यह सुनिश्चित किया जाए। जिससे आमजन को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा मिल सके। इस आशय के निर्देश कलेक्टर श्रीमती आर.उमामहेश्वरी ने बुधवार को जिला चिकित्सालय अशोकनगर के निरीक्षण के दौरान संबंधित स्‍वास्‍थ्‍य अधिकारियों को दिए। निरीक्षण के दौरान कलेक्टर ने कोविड-19 वार्ड एवं नवीन आईसीयू वार्ड में पहुंचकर लोगों के उपचार के लिए की जाने वाली व्यवस्थाओं को देखा। इस दौरान उन्होंने ऑक्सीजन सपोर्ट सहित बेड, वेंटिलेटर, ऑक्सीमीटर, फ्लोमीटर की बारीकियों से जांच कर परीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि बेड पास पर्याप्त ऑक्सीजन की उपलब्धता रहे सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने निर्देश दिए कि वार्ड में ऑक्सीजन,फ्लोमीटर ऑक्सीमीटर की निगरानी के लिए ड्यूटी लगाई जाए। जिससे तकनीकी खराबी होने पर तुरंत ठीक किया जा सके। इस दौरान उन्होंने जिला चिकित्सालय में स्थापित 03 ऑक्सीजन प्लांट से निर्मित होने वाली ऑक्सीजन की मात्रा एवं शुद्धता की जानकारी ली। इस दौरान बताया गया कि ऑक्सीजन प्लांट पूरी तरह क्रियाशील है। ऑक्सीजन की शुद्धता के लिए टेस्टिंग की जा चुकी है। तीनों प्लांटों से लगभग 1510 लीटर की क्षमता के ऑक्‍सीजन प्लांटों से 159 बेड तक ऑक्सीजन सप्लाई की जा रही है। कलेक्टर ने स्टोर रूम का निरीक्षण करते हुए निर्देश दिए कि दवाइयों की उपलब्धता एवं आवश्यक संसाधनों का स्‍टॉक रखा जाए। जिससे मांग अनुसार संबंधित स्‍वास्‍थ्‍य संस्‍थाओं को भेजी जा सके। इस दौरान बताया गया कि शासन द्वारा कोविड-19 की तीसरी लहर को दृष्टिगत रखते हुए सभी आवश्यक दवाएं उपलब्ध कराई गई हैं। उन्‍होंनें सिविल सर्जन औषधि भण्‍डारगृह तथा सीएमएचओ औषधि भण्‍डारगृह का निरीक्षण किया तथा उपलब्‍ध दवाईयों एवं स्‍टॉक पंजी का अवलोकन किया। निरीक्षण के दौरान उन्‍होंने पुरूष सर्जिकल वार्ड में पहुंचकर भर्ती मरीजों से उनके स्‍वास्‍थ्‍य के संबंध में जानकारी ली। साथ ही जिला चिकित्‍सालय से मिलने वाले नाश्‍ता एवं भोजन के बारे में पूछा। इस दौरान उन्‍होंने निर्देशित किया कि पुरूष सर्जिकल वार्ड में छत की आवश्‍यक मरम्‍मत कराई जाकर पुताई कराई जाए। उन्‍होंने जिला चिकित्‍सालय आवश्‍यक साफ सफाई किये जाने तथा जंग लगे पलंग,सिलेण्‍डरों एवं अन्‍य सामग्री की पुताई कराये जाने के निर्देश दिए। उन्‍होंने गैस सिलेण्‍डरो को एक जगह एकत्रित किये जाने, समस्‍त कंन्‍सट्रेटर का मेंटीनेंस कराये जाने के निर्देश दिए। निरीक्षण के दौरान मुख्‍य चिकित्‍सा एवं स्‍वास्‍थ्‍य अधिकारी डॉ.नीरज कुमार छारी,सिविल सर्जन डॉ.डी.के.भार्गव, चिकित्‍सक तथा संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।

Advertisement 1

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here